भ्रष्टाचार : शौचालय निर्माण के करोड़ों रुपए को सचिव और प्रधान ने मिलकर की बंदरबांट

बस्ती. एक तरफ सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की बात करते हैं. वहीं दूसरी तरफ अधिकारी हैं कि भष्ट्राचार करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते हैं. जिम्मेदारों ने विभागीय आंकड़े दुरुस्त करने के लिए शौचालय पर करोड़ों रुपए खर्च कर दिए हैं, लेकिन जरूरतमंदों को अभी तक शौचालय मिले ही नहीं हैं. जहां शौचालय बने हैं वो भी प्रधान और सचिव के भष्टाचार की भेंट चढ़ गए हैं. उत्तर प्रदेश का बस्ती जिला भले ही कागजों में वर्षों पहले ओडीएफ घोषित हो चुका है, लेकिन धरातल पर हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है.

बस्ती के हरैया विकासखंड के ग्राम सभा गोभिया के समौडा और समौडी कला में शौचालय के निर्माण मे तत्कालीन प्रधान और सचिव ने भष्टाचार के सारे रिकॉर्ड तोड दिए हैं. गांवों मे शौचालय के नाम पर जमकर सरकारी धन की लूट हुई है. दर्जनों शौचालयों में पांच वर्ष बीत जाने के बाद भी सीट, दरवाजे और छत तक नहीं है. केवल शौचालय का ढांचा खड़ा कर दिया गया है. शौचालय को लोग घरेलू समान रखने के लिए उपयोग कर रहे है. ग्रामीणों ने बताया की सचिव और तत्कालीन प्रधान ने मिलीभगत करके शौचालय के लिए पैसों को ही निकाल लिया और लोगों को इसके बारे में पता तक नहीं चला. मामले के बारे जानकारी होने के बाद इसकी शिकायत मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल और लिखित शिकायत विकासखंड अधिकारी हरैया से की, लेकिन अभी तक कोई भी अधिकारी जांच करने नहीं आ है.

इसे भी पढ़ें – युवती को शराब पिलाकर कॉलेज के दोस्त ने किया रेप, अश्लील वीडियो बनाकर दो साल तक करता रहा दुष्कर्म

ग्राम सभा के प्राथमिक स्कूल में भी शौचालय अधूरा पड़ा है. किसी शौचालय में छत नहीं तो किसी में सीट नहीं. और तो और गड्ढे भी खुले पड़े है जो बरसात में कभी भी दुर्घटना का कारण बन सकते हैं. शौचालयों के निर्माण नें घटिया ईंटों का प्रयोग किया गया है. ग्राम सभा में जमकर सरकारी धन की बंदर बांट हुई है. दर्जनों शौचालय आज भी आधे अधूरे पड़े हैं. ग्रामीण महिलाओं को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. भ्रष्टाचार की शिकायत के बाद भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है. शिकायत करने वाले भूतपूर्व सैनिक प्रमोद मिश्रा ने बताया की हमारे गांव में दर्जनों लोगों को पहले अपात्र घोषित कर दिया गया और फिर बाद में बिना बताए उनके नाम से एक नहीं दो-दो बार शौचालय का पैसा निकाल लिया गया.

Read more – Bombay HC Rejects Shilpa Shetty’s Plea; Hansal Mehta Tweets to Support Her

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।