Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

हेमंत शर्मा/न्यामुद्दीन अली, भोपाल/इंदौर/अनूपपुर। एमपी के तीन बच्चों को राष्ट्रीय बाल पुरस्कार (National Children Award) से नवाजा गया है। इंदौर के मास्टर अविशर्मा, अनूपपुर की बनीता और हरदा के अनुज जैन हैं। बनीता दास ने नासा स्पेस फाउंडेशन और अंतराष्ट्रीय खगोल शाखा के मिशन में एक क्षुद्र ग्रह की खोज की है। अनुज जैन को ये सम्मान शैक्षणिक क्षेत्र के लिए दिया गया है। वहीं इंदौर के अवि शर्मा लेखक, प्रेरक वक्ता, वैदिक गणित के सबसे युवा सरंक्षक हैं। अवि शर्मा देशभर के 120 विद्यार्थियों को वैदिक गणित पढ़ाते हैं। 

इसे भी पढ़ेः BIG BREAKING: कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची में एमपी के किसी नेता को नहीं मिली जगह, यूपी चुनाव के पहले चरण के लिए पार्टी ने जारी की सूची 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी बच्चों को डिजिटल प्रमाण पत्र प्रदान किए। इस दौरान पीएम मोदी ने मध्यप्रदेश के तीन बच्चों से भी बात की। साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने मध्यप्रदेश की तारीफ की। 

इसे भी पढ़ेः सीएम शिवराज का ढोलकी अवतारः आदिवासी महिलाओं के साथ बैठकर बजाई नगड़िया, बुंदेलखंडी गीतों पर झूम उठी महिलाएं, देखिए VIDEO

पीएम नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले दौर के लेखक, प्रेरक वक्ता, वैदिक गणित के सबसे युवा सरंक्षक मास्टर अवि शर्मा से बात की।  प्रधानमंत्री ने अवि से पूछा कि आपने तो बाल रामायण भी लिखी है और बच्चों को भी पढ़ाते हो। व्यख्यान भी करते हैं, तो क्या अभी भी आपमें बचपन बचा है या यह खत्म हो गया। जिसके जवाब में मास्टर अवि बोले कि पौराणिक कथाएं देख-सुनकर मुझे प्रेरणा मिलती है, पीएम ने कहा कि इसकी प्रेरणा आपको कहां से मिली तो इसका श्रेय भी अवि ने प्रधानमंत्री को दिया। अवि शर्मा ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान 2020 में देशभर में लगे लॉकडाउन के दौरान रामायण का री-टेलिकास्ट हुआ था, उसी से मुझे प्रेरणा मिलती है। रामायण को फिर से प्रसारित करने के लिए आपको धन्यवाद।

इंदौर के अवि शर्मा

इसे भी पढ़ेः MP में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता चलाएंगी स्मार्टफोनः 65 हजार से अधिक आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और 2 हजार 429 पर्यवेक्षकों को मिलेंगे मोबाइल, सीएम शिवराज कल से Smart Phone बांटने की करेंगे शुरुआत 

प्रधानमंत्री ने अवि से पूछा कि रामायण के कौन सा पात्र आपको सबसे ज्यादा प्रभावित करते हैं। इस पर अवि बोले कि ऐसे तो एक ही व्यक्ति हैं मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम, उन्होंने त्रेता युग में ही एक आदर्श व्यक्ति की रूपरेखा बता दी। वहीं अवि से वीसी के माध्यम से चर्चा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले की मध्य प्रदेश की माटी में ही कुछ खास बात है जो यहां से इतने ज्ञानी लोग निकलते हैं। इस दौरान उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती का भी जिक्र किया, प्रधानमंत्री बोले करीब 50 साल पहले की बात है, जब उमा भारती बच्ची थी और कथा सुनाया करती थी। तब वह एक बार गुजरात में आई थी और मैं भी उनकी कथा सुनने के लिए गया था। तब मैं उनसे बहुत प्रभावित हुआ था। उन्होंने कहा कि मंच पर उन्‍हें देखकर मुझे लगा कि मध्‍य प्रदेश की जमीन में ही कुछ ऐसा है कि ऐसे-ऐसे लोग तैयार हो जाते हैं।  इंदौर के एनआईसी कक्ष में उपस्थित इस बालक से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुए संवाद के दौरान कलेक्टर सहित कई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद रहे। वहीं इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह है मास्टर अवि शर्मा और उनके परिजनों को बधाई भी दी।

इसे भी पढ़ेः अप्रैल के बाद लगेगा बिजली बिल का झटकाः तीन महीने बाद लागू होगी बढ़ी हुई दरे, 9 रुपए प्रति यूनिट आएगा घर का बिल

बनीता को क्षुद्र ग्रह की खोज के लिए मिला पुरस्कार 

मध्यप्रदेश के अनूपपुर जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय अमरकंटक की छात्रा बनीता दास को भी राष्ट्रीय बाल पुरस्कार दिया गया है।  बचपन से विज्ञान विषय में रुझान होने वाली बनीता ने एक क्षुद्र ग्रह की खोज की है। इस क्षुद्र ग्रह का नाम उनके ही नाम से रखा जाएगा। इस अवसर पर बनीता दास के पिता बीबी दास तथा माता तृप्ति रानी दास, अपर कलेक्टर सरोधन सिंह, महिला बाल विकास विभाग की सहायक संचालक श्रीमती मंजूषा शर्मा उपस्थित थे। पुरस्कार मिलने के बाद छात्रा बनीता ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति एवं वैज्ञानिक डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम उनके आदर्श हैं। बचपन से ही विज्ञान से जुड़े कई बातों को पूरी तरह से जानने की जिज्ञासा रहे यही जिज्ञासा ने उन्हें वैज्ञानिक बनने के लिए प्रोत्साहित किया है।

अनूपपुर की बनीता दास

बनीता दास ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उद्बोधन ने मोटीवेट किया है। उन्होंने कहा कि अभी तो सफर शुरू हुआ है और भी आगे जाना है। कठिन चुनौतियों का सामना करते हुए स्पेश साईंटिस्ट के रूप में कार्य करने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि इंडियन स्पेष रिसर्च ऑर्गनाईजेशन (इसरो) के साथ कार्य कर देश सेवा का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि समाज के प्रति हमारी जिम्मेदारियां बढ़ी हैं। इसे बोझ के रूप में न लेकर बल्कि प्रोत्साहन के रूप में स्वीकार करना है।

इसे भी पढ़ेः खाकी वर्दी हुई दागदारः FIR दर्ज नहीं करने लिए 3 हजार घूस लेते प्रधान आरक्षक रंगे हाथ गिरफ्तार, लोकायुक्त ने की कार्रवाई  

अनुज जैन यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में कर रहे पढ़ाई 

हरदा के अनुज जैन को ये सम्मान शैक्षणिक क्षेत्र के लिए दिया गया है। अनुज जैन हरदा के बम्बे रोड़ पर रहते हैं। माता का नाम कल्पना जैन मामा का नाम राजकुमार जैन हैं। जन्म से मामा के घर रहने वाले अनुज जैन हरदा के सेंट मैरी स्कूल से पढ़ाई कर कोटा दिल्ली पढ़ाई कर विदेश में भुगर्व शास्त्र की पढ़ाई कर रहे है। अनुज अभी यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया से पढ़ाई कर रहे हैं।

हरदा के अनुज जैन

पुरस्कार मिलने के बाद अनुज ने कैलिफोर्निया से एक वीडियो मैसेज जारी किया है। अनुज ने अपने वीडियो संदेश में बताया कि मैंने पीएम मोदी के तीन मंत्र को आत्मसात किया है। मैं विनम्रता और संकल्प के रास्ते पर चलकर आगे की पढ़ाई कर रहा हूं। अनुज को यह पुरुस्कार सम्मान शैक्षणिक क्षेत्र के लिए दिया जा रहा है।

इसे भी पढ़ेः आलू-प्याज की आड़ में गांजा तस्करीः 200 किलो गांजा लेकर छत्तीसगढ़ से अनूपपुर आ रहे थे तस्कर, दो गिरफ्तार

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

">
Share: