PM मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से की मुलाकात, पंजाब में हुई घटना की दी पूरी जानकारी, उपराष्ट्रपति ने भी की प्रधानमंत्री से बात

नई दिल्ली। पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक के मामले में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चिंता जताई है. वहीं पीएम नरेंद्र मोदी आज राष्ट्रपति कोविंद से मिलने पहुंचे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के ट्विटर हैंडल से इस मुलाकात के संबंध में जानकारी दी गई. प्रधानमंत्री ने पंजाब में हुई पूरी घटना की जानकारी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को दी. इसके बाद प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया ने भी इस गंभीर चूक पर चिंता जताई. इससे पहले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी प्रधानमंत्री मोदी से बात की थी. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पंजाब यात्रा के दौरान उनकी सुरक्षा में हुई गंभीर चूक पर आज प्रधानमंत्री से बात की’. प्रधानमंत्री की सुरक्षा में हुई इस चूक पर गंभीर चिंता जताते हुए उपराष्ट्रपति ने अपेक्षा की है कि सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन सुनिश्चित हो और इसके लिए कड़े कदम उठाए जाएं, ताकि दोबारा ऐसा न हो.

PM की सुरक्षा में सेंध : पंजाब भाजपा ने राज्य के गृह मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा और DGP को बर्खास्त करने की मांग की

 

इधर पीएम की सुरक्षा में हुई चूक के मामले में पंजाब की चन्नी सरकार घिरी हुई है. अब चन्नी सरकार ने इस मसले की चांच के लिए उच्चस्तरीय जांच कमेटी का गठन भी कर दिया है. यह कमेटी तीन दिनों में अपनी रिपोर्ट तैयार करेगी. कमेटी में रिटायर्ड जस्टिस मेहताब सिंह गिल और प्रमुख सचिव (गृह मामलों और न्याय) अनुराग वर्मा शामिल हैं.

 

सुप्रीम कोर्ट में कल होगी मामले की सुनवाई

इधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में सेंध लगने से जुड़ा मामला गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में उठाया गया. शीर्ष अदालत शुक्रवार को मामले की सुनवाई के लिए तैयार हो गई है. वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह ने पंजाब में पीएम के काफिले में सुरक्षा उल्लंघन की जांच के लिए मुख्य न्यायाधीश एनवी रमणा की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष याचिका का उल्लेख किया. न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हेमा कोहली की पीठ ने सिंह को याचिका की एक प्रति पंजाब सरकार को देने को कहा और मामले की सुनवाई शुक्रवार को तय की. सिंह ने कहा कि यह पंजाब सरकार की ओर से एक गंभीर चूक है. प्रधानमंत्री मोदी का काफिला सड़क पर फंस गया था, जिससे अस्वीकार्य सुरक्षा उल्लंघन हुआ था.

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!