Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

नई दिल्ली। अरविंद केजरीवाल के मॉडल ऑफ गवर्नेंस का डंका सोमवार को एक बार फिर वैश्विक मंच पर गूंजा, जब उपमुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने लंदन में आयोजित हो रहे एजुकेशन वर्ल्ड फोरम 2022 में दुनिया भर के 122 शिक्षा मंत्रियों और एक्सपर्ट्स के सामने दिल्ली की शिक्षा क्रांति की खास बातें साझा कीं. मनीष सिसोदिया ने अपने अभिभाषण में बताया कि कैसे केजरीवाल सरकार ने शिक्षा को प्राथमिकता बनाकर लोगों का सरकारी एजुकेशन सिस्टम के प्रति भरोसा बढ़ाया. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि जब मैं शिक्षा के भविष्य की बात करता हूं, तो मेरा मतलब केवल उस छात्र के भविष्य के बारे में नहीं है जो स्कूल में पढ़ रहा है. शिक्षा परिवारों, समाजों, राष्ट्रों के भविष्य के बारे में है. आज शिक्षा का मतलब सिर्फ लोगों को शिक्षित करना नहीं है. यह केवल उन लोगों को शिक्षित करने के बारे में नहीं है, जो अशिक्षित और कम पढ़े-लिखे हैं, बल्कि यह उन लोगों को शिक्षित करने के बारे में भी है, जिन्हें गलत पढ़ाया जा रहा है.

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया

अशिक्षितों के साथ जिन लोगों ने गलत ढंग से सीखा, उन्हें भी शिक्षित करना शिक्षा का असल उद्देश्य

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया  ने दिल्ली में शिक्षा में आए बदलावों के बारे में साझा करते हुए कहा कि 2015 में जब आम आदमी पार्टी सरकार में आई, तब दिल्ली के सरकारी स्कूलों की हालत जर्जर थी और यहां बुनियादी सुविधाओं की भारी कमी थी. तब पेरेंट्स मजबूरी में अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ने भेजा करते थे, लेकिन जिस किसी के पास भी थोड़े संसाधन थे, वो पेरेंट्स अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल में ही भेजते थे. हमने इस परिदृश्य को बदलने का काम किया. आज दिल्ली सरकार के स्कूल विश्वस्तरीय हो चुके हैं. दिल्ली सरकार के स्कूल शानदार बिल्डिंग्स, स्मार्ट क्लासरूम, बेहतरीन खेल सुविधाओं वाले मैदानों और अन्य सुविधाओं से लैस हैं. दिल्ली सरकार के स्कूल प्राइवेट स्कूलों से भी शानदार हो चुके हैं, जिसकी बदौलत आज पेरेंट्स मजबूरी से नहीं बल्कि सम्मान के साथ अपने बच्चों को दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ने भेजते हैं और 2015 की तुलना में वर्तमान में दिल्ली सरकार के स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या में 21 फीसदी का इजाफा हुआ है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली की अवैध फैक्ट्रियां बुलडोजर के रडार पर क्यों नहीं ?, सुरक्षा मानकों और नियम-कायदों को ताक पर रखकर चल रही हैं फैक्ट्रियां, अब तक सैकड़ों की जा चुकी हैं जानें

माइंडसेट करिकुलम से छात्रों को फायदा

दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि 2015 में सरकार में आते ही दिल्ली सरकार ने हर साल अपने कुल बजट का लगभग 25 फीसदी शिक्षा को दिया है. अपने टीचर्स व स्कूल प्रमुखों को कैंब्रिज, सिंगापुर, फिनलैंड, आईआईएम में ट्रेनिंग के लिए भेजा, ताकि वहां शिक्षा में अपनाए जा रहे नवाचारों को सीख कर वे उन्हें अपने स्कूलों में अपना सकें. स्कूल प्रमुखों की वित्तीय और प्रशासनिक शक्तियां बढ़ाई. इन सबकी बदौलत यहां 12वीं का रिजल्ट लगभग 100 फीसदी है. हर साल सैकड़ों की संख्या में दिल्ली सरकार के स्कूलों के बच्चों को भारत के टॉप संस्थानों में एडमिशन मिल रहा है. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली का एजुकेशन मॉडल केवल शानदार स्कूल बिल्डिंग बनाने, रिजल्ट के बेहतर होने या टीचर्स को विदेशों में ट्रेनिंग देने तक ही सीमित नहीं है. शिक्षा का असल उद्देश्य एक-दूसरे का सम्मान करना, बेहतर इंसान बनना व देश-समाज के लिए कार्य करना है. इस उद्देश्य के साथ दिल्ली सरकार ने अपने स्कूलों में माइंडसेट करिकुलम की शुरुआत की.

ये भी पढ़ें: दिल्ली: शास्त्री भवन की 7वीं मंजिल से वैज्ञानिक राकेश मलिक ने कूदकर की खुदकुशी, जांच जारी

देशभक्ति करिकुलम की भी शुरुआत

दिल्ली सरकार ने अपने स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मेंटल और इमोशनल तौर पर बेहतर बनाने, उन्हें बेहतर इंसान बनाने, खुश रहना सिखाने के लिए हैप्पीनेस माइंडसेट करिकुलम की शुरुआत की और रोजाना कक्षा नर्सरी से 8वीं के 10 लाख से अधिक बच्चे स्कूल में अपने दिन की शुरुआत माइंडफुलनेस के साथ करते हैं. दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे नौकरी पाने की चाहत रखने के बजाय नौकरी देने वाले बनें, रिस्क लेना सीख सकें और उनमें ग्रोथ माइंडसेट का विकास हो सके, इसके लिए एंटरप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम की शुरुआत की गई. बच्चों में अपने देश के प्रति गर्व की भावना हो और वे बेहतर नागरिक बन सकें, इसके लिए देशभक्ति करिकुलम की शुरुआत की गई है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली-NCR में जमकर हो रही बारिश, मौसम में घुली ठंडक, 2004 के बाद सबसे कम तापमान दर्ज

स्कूल को अगर दिलचस्प जगह बनाई जाए, तो ड्रॉप आउट होंगे कम

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया कि डिग्नफाइड कक्षाओं, परिवेश, बेहतर प्रशिक्षित शिक्षकों द्वारा छात्रों के लिए शिक्षा को और अधिक रोचक बनाना, विभिन्न माइंडसेट करिकुलम शुरू करने से एक बड़ा बदलाव देखने को मिला. ड्रॉप आउट और अनुपस्थिति दर में कमी देखने को मिली, क्योंकि जब कोई छात्र स्कूल को एक दिलचस्प जगह पाता है, एक ऐसी जगह जहां वह रहना चाहता है, तभी हम स्कूलों में ड्रॉप आउट दर को कम कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि यदि राष्ट्र एक-दूसरे से सीखते हैं, तो हम एक आदर्श शिक्षा प्रणाली का निर्माण कर सकते हैं, जो छात्रों को उनकी क्षमता का एहसास करने और जागरूक नागरिक बनने में मदद करती है, जिस पर दुनिया को वास्तव में गर्व हो सकता है.

ये भी पढ़ें: Delhi New Lieutenant Governor: विनय कुमार सक्सेना दिल्ली के नए उपराज्यपाल नियुक्त, अनिल बैजल की ली जगह, कभी खादी आयोग में 248 फीसदी वृद्धि लाकर आए थे चर्चा में